मुद्रास्फीति बढ़ने के संकेत से तेज़ कीमती धातुए।

घरेलु वायदा सोने में पिछले सप्ताह 1000 रुपये की तेज़ी देखि गई और कीमते 48100 रुपये प्रति दस ग्राम के स्तरों को छू गई। दिसंबर वायदा चांदी भी सप्ताह में 1500 रुपये तेज़ होकर 63800 रुपये प्रति किलो के स्तरों को छुआ।

हालांकि शुक्रवार को कीमती धातुओं में मुनाफा वसूली भी रही। डॉलर जो सोने के विपरीत दिशा में चलता है, में 0.2 प्रतिशत की साप्ताहिक गिरावट दर्ज की गई। पिछले सप्ताह कॉमेक्स वायदा सोना 1800 डॉलर प्रति औंस के ऊपरी स्तरों तक गया जो सितम्बर माह के बाद का उच्चतम स्तर है।

तेल की कीमतों में 80 डॉलर प्रति बैरल के सात साल के उच्च स्तर पर पहुंचने के बाद अंततः मुद्रास्फीति से बचाव और सुरक्षित आश्रय के रूप में सोना अपने लेबल पर खरा उतरा है। लेकिन, उम्मीद से बेहतर खुदरा बिक्री रिपोर्ट और कॉर्पोरेट कमाई के मजबूत आकड़ो ने अमेरिकी  बांड यील्ड को उच्च स्तरों पर पंहुचा दिया जिससे गैर उपज वाली संपत्ति सोने में ऊपरी स्तरों पर दबाव रहा।

भारत, अमेरिका और यूरोप के प्रमुख त्योहारों के पहले अच्छे खुदरा बिक्री के आंकड़े, कॉर्पोरेट अर्निंग को आगे भी मजबूत बने रहने का संकेत देते है जिससे अमरीकी शेयर मार्किट डाव जोंस में पिछले सप्ताह 1.5 प्रतिशत की तेज़ी रही।

कोल् आपूर्ति में बाधा आने से चीन और यूरोप में पावर शार्टेज की समस्या बनी हुई है जिसके कारण कच्चे तेल और औद्योगिक धातुओं के भाव में फिर से तेज़ी देखि जा रही है। कच्चे तेल के भाव, औद्योगिक धातुओं के बढ़ते भाव और मजबूत होती खुदरा मांग, मुद्रास्फीति को सपोर्ट कर रही है जिससे सोने और चांदी में तेज़ी बनी रहने के आसार है।

तकनीकी विश्लेषण :
कीमती धातुओं में इस सप्ताह तेज़ी रहने की सम्भावना है। घरेलु वायदा सोने में 47000 रुपये पर सपोर्ट है और 47700 रुपये पर प्रतिरोध है। चांदी वायदा में 62000 रुपये पर सपोर्ट और 64000 रुपये पर प्रतिरोध है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *