Crude oil price increased due to fall in dollar - Swastika Swastika
डॉलर मे गिरावट से बढ़े कच्चे तेल के भाव

डॉलर मे गिरावट से बढ़े कच्चे तेल के भाव | Crude oil price increased due to fall in dollar

कच्चे माल और गैसोलीन के अमेरिकी भंडार में गिरावट के कारण कच्चे तेल के भाव मे तेज़ी आई है। साथ हीब्रेक्सिट सौदे के संकेत ने निवेशकों की जोखिम की क्षमता बढ़ा दी है। क्रूड और ईंधन के साथसाथ संभावित ब्रेक्सिट सौदे के कारण डॉलर मे दबाव बना रहा, जिससे कच्चे तेल के भाव को सपोर्ट मिला है।

डॉलर मे गिरावट अन्य मुद्राओं के धारकों के लिए ग्रीनबैक की कीमत को अधिक किफायती बनाता है। लेकिनकोरोनोवायरस के एक नए संस्करण पर चिंता का विषय है और  छुट्टी के मोड में निवेशकों के साथ तेल बाजार शांत भी है।

ऊर्जा सूचना प्रशासन ( ईआईए ) ने बुधवार को कहा कि कच्चे तेल की सूची सप्ताह में 562,000 बैरल घटकर 4995 लाख बैरल तक गिर गई है। ईआईए ने कहा कि गैसोलीन के स्टॉक में 10.1 लाख बैरल की गिरावट आई, जबकि डिस्टिलेट स्टॉकपाइल्स 23 लाख बैरल से अधिक तक गिर गए है।

 तेल की कीमतों ने उन खबरों से भी समर्थन हासिल किया, जो ब्रिटेन और यूरोपीय संघ के एक संकीर्ण व्यापार समझौते को तोड़ने के लिए थे। वैश्विक शेयर बाजार में एक पलटाव के कारण निवेशकों के बीच जोखिम की क्षमता में भी सुधार हुआ है, जिससे लगता है कि कोरोनोवायरस के एक नए संस्करण पर डर थोड़ा कम हुआ है। 

कुछ निवेशक तेल की मांग सुधरने के बारे में असमर्थ हैक्योकि अमेरिकियों को फिर से चेतावनी दी गई है कि वे क्रिसमस के लिए यात्रा करें क्योंकि अस्पतालों में मरीज बढ़ सकते है।

आपूर्ति पक्ष पर, इस सप्ताह अमेरिकी ऊर्जा फर्मों ने लगातार पाँचवें सप्ताह तेल और प्राकृतिक गैस रिसाव मे वृद्धि दर्ज की है। तेल और गैस रिग काउंट, भविष्य के आउटपुट का एक प्रारंभिक संकेतक है और बेकर ह्यूजेस के मुताबिक, सप्ताह में तेल रिग काउंट 2 से बढ़कर 348 तक पहुंच गया है।

तकनीकी विश्लेषण : घरेलु वायदा कच्चे तेल के भाव इस सप्ताह सीमित दायरे मे रह सकते है। इसमें 3330 रुपय के निचले स्तरों पर सपोर्ट है तथा 3700 रुपए पर प्रतिरोध है। 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *